CURRENT QUIZ: हाल में गृह मंत्रालय ने 'बिजली गिरना' आपदा को अधिसूचित आपदा की सूची में शामिल करने की सिफारिश 14वे वित्त आयोग से की है***बिहार के तेलहड़ा में प्राचीनतम विश्वविद्यालय के प्रमाण प्राप्त हुए ***मराठा मंदिर सिनेमा हॉल मे 'दिलवाले दुल्हनिया ले जायेंगे' लगातार १०००० सप्ताह दिखाने का रिकॉर्ड बनाया ***21 जून को 'अंतराष्ट्रीय योग दिवस' मनाया जायेगा ***इबोला से लड़ने वाले डॉक्टर्स एवं नर्सों को टाइम पर्सन ऑफ़ दी ईयर २०१५ घोषित किया गया***भारत ने पहली बार अपना युद्धक पोत किसी देश को निर्यात करने का निर्णय किया. उस युद्धक पोत का क्या नाम है? (सीजीएस बैराकुडा)***भारत ने पहली बार अपना युद्धक पोत (सीजीएस बैराकुडा) किसी देश को निर्यात करने का निर्णय किया. उस देश का क्या नाम है? (मॉरीशस)***भारतीय दंड संहिता की वह धारा जिसके तहत आत्महत्या को गैर आपराधिक बनाया गया है? (धारा ३०९)***विश्व बैंक की एक शाखा "मिगा " का १८१ वां सदस्य कौन सा देश बना है(भूटान)***'उबर' जिस पर केंद्र सरकार ने दिल्ली में ऍप्स टैक्सी सेवा उपलब्ध कराने पर प्रतिबन्ध लगा दिया, किस देश की कंपनी है? (यूएसए)***अंतराष्ट्रीय भ्रस्टाचार निरोधी दिवस किस तिथि को मनाया जाता है? (9 दिसम्बर )***वह तिथि जिस दिन प्रथम विश्व मृदा दिवस मनाया गया:(5 दिसंबर)***हाल में अंतरास्ट्रीय अपराध अदालत ने उहरु केन्याता के खिलाफ युद्ध अपराध से सम्बंधित आरोप वापस ले लिए. उहरु केन्याता किस देश के राष्ट्रपति हैं? (केन्या)***वह देश जिसे दिसम्बर के प्रथम सप्ताह में पेयजल संकट के समाधान हेतु भारत ने बड़ी मात्र में पेयजल के आपूर्ति की?(मालदीव)***न्यू होराइजन्स किस आकाशीय पिंड के अध्ययन हेतु भेजा गया नासा का अभियान है? (प्लूटो )***हाल में कौन खिलाडी एकदिवसीय क्रिकेट में १०००० रन बनाने वाले विश्व के चौथे बल्लेबाज बने: (कुमार संगकारा)***वह केंद्रीय मंत्री और लोकसभा संसद जिनके बयानों के कारण संसद का दोनों सदन कई दिनों तक वाधित रहा: (साध्वी निरंजना ज्योति)*** भारत ने किस देश को पराजित कर दृष्टिहीनों का क्रिकेट विश्व कप २०१४ जीता: (पाकिस्तान )***इसरो ने किस तिथि को जीसैट 16 फ्रेंच गुयाना के कोउरू के अरियन-5 यान से प्रक्षेपित किया (7 दिसंबर )**थर्टी मीटर टेलिस्कोप परियोजना का पूर्ण सदस्य बना भारत***अरुण मजूमदार अमेरिका का विज्ञानं दूत बनें ***

Sunday, October 21, 2012

FORGERY IN BIHAR STAFF SELECTION COMMISSION EXAMINATION




A big forgery has surfaced in almost all the examinations conducted (so far) by Bihar Staff Selection Commission (BSSC).  According to the Chairman of BSSC, no BSSC officials are involved in this scandal. Although it raises some questions which have to be answered by the BSSC. On October 20, State STF arrested 17 persons who were involved in the forgery. A group used to tell students not to fill up those questions’s answer on OMR sheet which they didn't know. In the night of the examination (after the examination) this group used to visit BSSC strong room with subject specialists. After opening strong room, with duplicate key, they made changes on the candidates’ OMR sheet. They did all the changes with the help of on duty police personnel. Some of the examinations in which such things were done, are; clerk examination, auditor examination, junior engineering examination. This group’s involvement was disclosed in the five examinations conducted by the commission. Now so many questions have been emerged, which have to be answered by the commission. How many students have passed the examination through forgery? Whether any staff of BSSC are involved or not? Although BSSC chairman is saying that no BSSC staff is involved, yet it is not beyond doubt. Because without the involvement of commission’s staff, it is very tough to find out omr sheets of some selective students, in the lakhs of OMR sheets. Although passing examination with wrongdoings is not new in Bihar. We all know a notorious don was arrested few years back. But since then nobody had thought that such things are still done by some groups.  Once again such types of disclosure will discomfort candidates of competitive examinations. These needed inquiry and to ensure transparency, state commission should ensure that not a single student compete the examination on wrongdoings.

CLICK HERE FOR BIHAR RURAL LIVELIHOOD REGIONAL & COMMUNITY COORDINATOR POSTS

24 comments:

Anonymous said...

Well done ratish jee

Anonymous said...

Tabhi to ascharya hua ki mai fail kyo kar gaya. Salo ne sare bantadhar kar diya hai. Fair selection kaha se hoga. Sushashan ke nam par Duhsashan raj lagu hai.

Anonymous said...

राज्य कर्मचारी चयन आयोग के अधीन होने वाली तमाम परीक्षाओं में मेधा को मुंह की खानी पड़ी और हेराफेरी करने वालों की चांदी रही। यह सब कुछ लम्बे समय से हो रहा था और किसी को इसकी भनक तक नहीं लगी। यह गैंग पहले भी प्रश्न पत्र आउट करने के काम में शामिल रहा लेकिन, अचानक इसने स्ट्रांग रूम (जहां उत्तर पुस्तिकाएं रखीं जाती थीं) तक पहुंच बना ली। आयोग कार्यालय के कोने-कोने की फोटो, तमाम कमरों में लगने वाले ताले की डुप्लीकेट चाबी और स्ट्रांग रूम की सील इन लोगों ने कैसे तैयार कर ली यह जांच का विषय है। कोई एक सरगना नहीं : इस गैंग का कोई एक सरगना नहीं था बल्कि कई लोग अपने अपने कामों के कारण बराबर के हिस्सेदार थे। सौदा दस लाख से तीन लाख तक का होता था। प्रदेशभर में फैले हैं सदस्य : राज्यभर में गैंग के सदस्य फैले हैं। जिनका काम ग्राहक को लाना होता था। रकम ओहदा देखकर तय होती थी। साधारण क्लर्क की नौकरी तीन लाख में तो उससे ऊंचे पद के लिये दस लाख में सौदा तय होता था। सेटिंग कर बनाते थे पैठ : स्ट्रांग रूम में जिस तरह की सील लगती थी उसी तरह की सील बाजार में तैयार करा ली जाती थी। सेटिंग होने के बाद गैंग के दो सदस्य रात में कार्यालय के भीतर जाकर मुख्य द्वार का ताला नकली चाबी से खोल स्ट्रांग रूम में घुसते थे। इस बार करोड़ों की कमाई होनी थी। ये कामयाब होने के कगार पर थे। हेराफेरी के फेर में मेधा हो गई ढेर

amit kumar singh said...

lapgata hai in choro ke wajah se mumbai me bihari ban kar hi rahana padega

M.K said...

kya kare bhai Ganda hai par dhanda hai ye, Aakhir pol khul hi gayi ki Bihar me kis tarah ka susasan hai, Aur Jaha tak BSSC ke staff and officer ki baat hai mujhe to lagta hai woh log chor chor mausera bhai ka prampara nibha rahe hai.
Isliye jolog jaha par naukari kar rahe wahi par apne aap ko santust kar le, Jai ho susasan babu ki!

Anonymous said...

Chairman is denying the hand of any officer without investigation.. Why??
he should be made responsible for all this...

ख़ानाबदोश said...

मै तो सुबह अखबार पढ़कर भौचक्का रह गया !
आखिर इन सेटिंग करने वालों की इतनी हिम्मत कैसे हुई की बीएसएससी के ऑफिस मे सेंध लगा दी । इसका मतलब साफ है की बीएसएससी के कई कर्मचारी इसमे संलिप्त है (केवल सिपाहियों की मिलीभगत से ये संभव नहीं है )
दूसरी बात ये है की ये कई दिन से चल रहा था तो सचिवालय सहायक के एक्जाम मे भी काफी धांधली हुई होगी !!

Anonymous said...

Khanabadosh jee, BSSC ki sari pariksha sandeh ke ghere me hai. Sachiwalaya sahayak pariksha me bhi hui hogi bade paimane par. Shukra hai ki mains se pehle bhanda foot gaya. Barna sari seat fix hoti. WAise abhi bhi isase inkar nahi kiya ja sakta.

Wrooom said...

....."But since then nobody had thought that such things are still done by some groups."....

Ritesh ji ,, aap bhi achha majak karte hai... kam se kam patna ke lagbhag sabhi students ko yah pata hai.. scholering ka dhanda harek lodge ,, hostel me chalta hai... agar koi jara bhi talented student najar aata hai.. setters uske pichhe pad jate hai... kamai ka lalach bura hota hai..

sachivalay sahayak exam se pahle machua toli ke raju chay dukan par kuchh log setting ki bat kar rahe the.. par mujhe vishwas nahi huwa tha... lagta tha ki ve jhooth bol rahe hai...
par ve jaisa bata rahe the mamla vahi nikla... pure vivaran me antar matra thoda sa hi hai...
sachivalay sahayak pre exam se pahle hi ve iske bare me bata rahe the...
unke anusar omr sheet .. outsourcing agency se nikla jata hai.. (jaha omr sheets computer par check hoti thi)
par vastav me yah aayog ke strong room se hi nikla jata tha...
patna police badhai hi nahi.. balki lakho students ki duvaao ki bhi patra hai....well don.. and hit them hard.....

Anonymous said...

Its next to impossible to committ such henious crime without the collusion of higher authorities posted in ssc. The statement of ssc chairman in media just after the decipherment denying the involvement of any ssc official in this forgery without any investigation is itself a strong evidence that the entire machinery was well aware of all this forgery.

Wrooom said...

kash mai bihar police me hota.. sare dhadhebaji nikal deta...

aab mains ke liye koi kaise confidentaly taiyari kar sakta hai.... sari taiyari dhari rah jaegi aur dhandgebaj-jugadu log seats par kabja kar lenge...
aasha karta hun ki aise sabhi giriho ko pakad liya jaega...

agar pratyek exam se pahle police jara sa prachar abhiyan chala de....is prakar ke giroho ke bare me students se suchna mange...apna number akhbaro me chhapva de....to lagbhag sare giroh pakde jaenge.... akhir kar aise giroh bhi students se sambandh banaye rakhte hai... students ki jankari me hi kam karte hai...
par students ko pata nahi hota ki kisase shikayat kare... gopniyta rakhi jaegi ya nahi.... par police ko hi khabar nahi hoti...

Anonymous said...

Ab samjh me aa raha hai sachiwaly me kuch logon ko kaise 425-450 number tak aa gaye hain.....ab hum mains ko lekar bahoot insecure feel kar rahe hain...kya kare kahan jayen....?? Court par bhi bharosa nahi hai..

M.K said...

question galat diya ya uska answer ka galat evaluation kiya issabhi matter me case high court me kar diye case karne wale bhai logon par istarah ki forgery ke liye case kaha karonge!
main to itna hi manta hun ki bina andolan kiye, bihar me selection fair hona namumkin hi nahi asambhaw hai`
Isiliye dosto HALL BOL! AGAINST THIS CORRUPTION AND THIS CORRUPTION BODY AS WELL AS CORRUPT GOVT.

amit kumar singh said...

this hinious act cant done without help of sr bssc official.sabse pahale to inhi sabo ko bssc ke bahar ka rasta dikhana chahiye. Inki kali kamai ki janch honi chahiye.agar main patna police me hota aur in haramjado ko pakadata to jam kar pitane ke bad unki kalam pakadne wali finger hi kat deta ~bad me jo hota dekha jata

Anonymous said...

केंद्रीय कर्मचारी चयन आयोग की परीक्षा में सेटिंग का पर्दाफाश हमारे प्रतिनिधि, फुलवारीशरीफ : केंद्रीय कर्मचारी चयन आयोग की रविवार को हुई एलडीसी परीक्षा (लोअर डिवीजन क्लर्क) में भी रुपये के बल पर नौकरी पाने के खेल का पर्दाफाश करते हुए एसटीएफ ने इस धंधे के मास्टर माइंड बंटी सहित 22 लोगों को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार लोगों के पास से मोबाइल फोन, ब्लूटूथ, लैपटॉप व प्रमाण पत्र बरामद किया गया है। एसटीएफ की दो दिन से चल रही कार्रवाई को देखते हुए इस धंधे से जुड़े लोगों ने भागलपुर को सेंटर बना रखा था और वहीं से पटना में फर्जीवाड़े को अंजाम दे रहे थे। गिरफ्तार होने वालों में दस स्कॉलर हैं, जो भागलपुर में बैठकर प्रश्न हल कर रहे थे। पूरे मामले में तीन दिन में अब तक 37 की गिरफ्तारी हो चुकी है।

Anonymous said...

स्कूल खुलने के पहले भेज दीजिए हम ऊपर बैठा देगें। इसी एक वाक्य ने हाइटेक तरीके से नकल कराने व नौकरी दिलाने वाले गैंग का भंडा फोड़ा। दरअसल प्रतियोगी परीक्षाओं में लगातार धांधली की शिकायत पर सक्रिय एसटीएफ रविवार को होने वाली परीक्षा को देखते हुए पहले ही अपनी टीम लगा चुकी थी। टीम को मुख्य सरगना का मोबाइल नम्बर हाथ लग गया था। जिसे सर्विलांस पर लेते हुए गैंग की बातचीत रिकार्ड की जा रही थी। एक वाक्य ने खोला राज गैंग के मुख्य सरगना के मोबाइल पर रविवार सुबह एक फोन आया कि स्कूल खुलने के पहले भेज दीजिए, हम ऊपर बैठा देगें। एसटीएफ की जांच टीम को इससे एक दिशा मिली और उसने इसी बातचीत के आधार पर अपनी जांच आगे बढ़ाई। इसी बीच उसे दिल्ली से ब्लूटूथ लेकर आने वाले सूरज का पता लगा। सूरज को दबोचने के बाद जांच टीम का काम आसान हो गया और वह मुख्य सरगना बंटी तक जा पहुंची। चांदनी चौक से मंगाया ब्लूटूथ गैंग सरगना बंटी द्वारा 18 ब्लूटूथ और बैटरी दिल्ली के चांदनी चौक से मंगाई गई थी। एसटीएफ ने बंटी से पूछताछ शुरू की तो पूरा मामला खुलकर सामने आ गया। पूछताछ में पता चला कि यह बंटी का पुराना धंधा है। वह रुपये के बल पर नौकरी दिलाने का काम करता है। सूरज का काम केवल ब्लूटूथ और बैटरी की सप्लाई करना था। कैंडिडेट भेजता था पेपर की फोटो देखने में छोटा से ब्लूटुथ से सारा खेल होता था। परीक्षा केन्द्र पर एक उम्मीदवार जो गैंग का सदस्य होता था, अत्याधुनिक मोबाइल लेकर परीक्षा केंद्र पर जाता था। मोबाइल से प्रश्न पत्र की फोटो खींचने के बाद उसे मेल से बाहर गैंग के सदस्यों को भेज दिया जाता था। प्रश्न पत्र बाहर आने के साथ ही स्कालर उसका हल निकाल कर भीतर बैठे उम्मीदवारों को ब्लूटूथ के माध्यम से उत्तर बताते थे। स्कूलों की भूमिका भी संदेह के घेरे में सोचनीय बात तो यह है कि इस पूरे काम में उन स्कूलों की भूमिका क्या होती थी, जहां परीक्षा आयोजित की जाती थी। किन शर्त पर वह प्रश्न पत्र आउट करने के लिये उम्मीदवार को आजादी दिया करते थे। पुलिस यह पता लगाने में जुटी है कि फोन किसने किया था? कहीं फोन स्कूल से तो नहीं किया गया था। पुलिस इस बिंदु पर भी जांच कर रही है।

Anonymous said...

महादलित विकास मिशन की परीक्षा में सेटिंग करनेवाले 54 लोग पुनपुन हाइस्कूल से गिरफ्तार

सरकारी नौकरियों के लिए होनेवाली परीक्षाओं में प्रश्नपत्र लीक कर सेटिंग करनेवालों ने अपने काम-काज का तरीका भी हाइटेक कर लिया है. अब वे किसी एक शहर में किसी खास सेंटर से प्रश्नपत्र लीक कराते हैं. फिर उसका जवाब तैयार कर इ-मेल के जरिये दूसरे शहरों में अपने गिरोह के अन्य लोगों को भेजते हैं. वहां का गिरोह मोबाइल से इसे सेंटर तक उन अभ्यर्थियों तक पहुंचाता है, जिनसे मोटी रकम वसूल की गयी होती है.

Anonymous said...

We salute STF...

M.K said...

Manana parega in setre ko jo daily ek naya tarika nikalte rahte hai parantu STF bhi barai ke patra hai jo inke harek technique ka muhtod jawab de rahe hai. In STF wale to sat sat naman jo na jane kitne qualified aspirant ke bhawisya se ho rahe khilwad ko band karne ka muhim chala rakha hai.

NEELKAMAL said...

कर्मचारी चयन आयोग में व्याप्त धांधली पर प्रदर्शन

बिहार कर्मचारी चयन आयोग द्वारा ली जा रही प्रतियोगिता परीक्षाओं में लगातार जारी धांधली और आयोग कार्यालय में ही उत्तर पुस्तिकाओं के साथ छेड़छाड़ के खिलाफ आल इंडिया स्टूडेंट्स फेडरेशन (एआइएसएफ) ने सोमवार को आयोग के अध्यक्ष व सचिव का पुतला फूंका और दोनों की बर्खास्तगी की मांग की। पुतला दहन के पूर्व छात्रों का जुलूस बेली रोड स्थित आइजीआइएमएस गेट से निकल नारे लगाते हुए आयोग कार्यालय के गेट पर पहुंचा और प्रदर्शन के दौरान कर्मचारी चयन आयोग के अध्यक्ष व सचिव का पुतला फूंका। इसके बाद वहां सभा हुई। सभा को अभिषेक आनंद व राज्य सचिव विश्वजीत ने संबोधित किया। राज्य सचिव ने कहा कि संगठन ने आयोग में व्याप्त धांधली के खिलाफ लगातार आवाज उठाई है। संघर्ष किया है। इस सबके बावजूद राज्य सरकार ने चुप्पी साध रखी है। संगठन ने मांग की है कि आयोग द्वारा आयोजित सचिवालय सहायक परीक्षा सहित हाल में हुई तमाम परीक्षाओं की जांच की जाये व गड़बड़ी पाये जाने पर रद किया जाए। अध्यक्ष व सचिव को बर्खास्त किया जाये। प्रदर्शन में शंकर पंडित, विजय कुमार, विनीत कुमार व अन्य ने भाग लिया।

Anonymous said...

Neelkamal bhai aap to bpsc pe update dena hi chor diya lagta hai. Kuch info ho to share kare pl.

shashi bhushan said...

Hi frnd

Anonymous said...

परीक्षाओं को बनायें फूलप्रूफ

हार में सरकारी नौकरियों के लिए होनेवाली प्रतियोगिता परीक्षाओं में फरजीवाड़ा करनेवाले गिरोह हाल के दिनों में पक.डे गये हैं. एसटीएफ ने पिछले ढाई माह में ऐसे चार अलग-अलग गिरोहों का उद्भेदन किया है और 107 लोगों को गिरफ्तार किया है. इन गिरोहों ने अपना नेटवर्क कई जिलों में फैला रखा था. इनके काम-काज के तरीके से पता चलता है कि संचार के अत्याधुनिक तरीकों का कैसे गैरकानूनी इस्तेमाल हो रहा है. गिरोह के पास से ब्लूटूथ डिवाइस, मोबाइल, फैक्स, प्रिंटर, लैपटॉप आदि जब्त किये गये. ये एक परीक्षा केंद्र से सवाल लीक करते थे और फिर उनके जवाब ब्लूटूथ के माध्यम से दूसरे परीक्षा केंद्रों में अभ्यर्थियों तक पहुंचाते थे. इतना ही नहीं, इन्होंने अपनी पैठ राज्य कर्मचारी चयन आयोग के स्ट्रांग रूम तक बना ली थी. जूनियर इंजीनियरिंग की परीक्षा की उत्तरपुस्तिकाओं में हेरफेर की बात सामने आने पर इसकी जांच शुरू हुई है. दरअसल नौकरियों के लिए परीक्षाओं में फरजीवाड़ा एक तरह का संगठित अपराध है. ऐसे संगठित अपराध का समाज पर दूरगामी असर पड़ता है. यदि इसे रोका नहीं गया तो एक तरफ पैसे के बल पर नौकरी पानेवाले अयोग्य और अक्षम लोग सरकारी महकमे में जगह पा जायेंगे, तो दूसरी ओर प्रतिभावान युवक सिर्फ इस कारण नौकरी से वंचित हो जायेंगे, क्योंकि उनका हक किसी और ने छीन लिया होगा. इससे समाज में असंतोष की भावना पनपेगी. एसटीएफ और बिहार पुलिस की आर्थिक अपराध अनुसंधान इकाई द्वारा ऐसे गिरोहों के खिलाफ अभियान चलाना (भले ही देर से सही) उन युवकों के लिए संतोष की बात है, जिनमें मेधा है और जो रात-दिन एक कर प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करते हैं. अब एसटीएफ और आर्थिक अपराध अनुसंधान इकाई की जिम्मेवारी और बढ. जाती है. अब तक की कार्रवाई में जो पक.डे गये हैं, वे बिचौलिये और लाभुक हैं. गिरोह के किंगपिन तक पहुंचना और सतत मॉनीटरिंग के जरिये ऐसे गिरोहों को फिर से पनपने नहीं देना अब भी बड़ी चुनौती है. चूंकि यह विशिष्ट किस्म का अपराध है, ऐसे में इसका अनुसंधान भी उसी नजरिये से होना चाहिए. वहीं परीक्षा आयोजित करनेवाली संस्थाओं को भी अपने काम-काज और परीक्षा प्रक्रिया को पहले से ज्यादा फूलप्रूफ और पारदश्री बनाना होगा. इसमें नवीनतम तकनीक का अधिकाधिक प्रयोग कारगर हो सकता है. यह इसलिए भी जरूरी है कि परीक्षा आयोजित करने वाली संस्थाओं के प्रति बेरोजगार अभ्यर्थियों का भरोसा कायम रहे

Anonymous said...

I like this blog its a master peace ! .